Make your own free website on Tripod.com

PURAANIC SUBJECT INDEX

पुराण विषय अनुक्रमणिका

(Suvaha - Hlaadini)

Radha Gupta, Suman Agarwal & Vipin Kumar

 

Home

Suvaha - Soorpaakshi  (Susheela, Sushumnaa, Sushena, Suukta / hymn, Suuchi / needle, Suutra / sutra / thread etc.)

Soorpaaraka - Srishti   (Soorya / sun, Srishti / manifestation etc. )

Setu - Somasharmaa ( Setu / bridge, Soma, Somadutta, Somasharmaa etc.)

Somashoora - Stutaswaami   ( Saudaasa, Saubhari, Saubhaagya, Sauveera, Stana, Stambha / pillar etc.)

Stuti - Stuti  ( Stuti / prayer )

Steya - Stotra ( Stotra / prayer )

Stoma - Snaana (  Stree / lady, Sthaanu, Snaana / bath etc. )

Snaayu - Swapna ( Spanda, Sparsha / touch, Smriti / memory, Syamantaka, Swadhaa, Swapna / dream etc.)

Swabhaava - Swah (  Swara, Swarga, Swaahaa, Sweda / sweat etc.)

Hamsa - Hayagreeva ( Hamsa / Hansa / swan, Hanumaana, Haya / horse, Hayagreeva etc.)

Hayanti - Harisimha ( Hara, Hari, Harishchandra etc.)

Harisoma - Haasa ( Haryashva, Harsha,  Hala / plough, Havirdhaana, Hasta / hand, Hastinaapura / Hastinapur, Hasti / elephant, Haataka, Haareeta, Haasa etc. )

Haahaa - Hubaka (Himsaa / Hinsaa / violence, Himaalaya / Himalaya, Hiranya, Hiranyakashipu, Hiranyagarbha, Hiranyaaksha, Hunkaara etc. )

Humba - Hotaa (Hoohoo, Hridaya / heart, Hrisheekesha, Heti, Hema, Heramba, Haihai, Hotaa etc.)

Hotra - Hlaadini (Homa, Holi, Hrida, Hree etc.)

 

 

HIRANYAKASHIPU AND PRAHLAD

-         Radha Gupta

In the seventh canto of Shrimad Bhaagwatam, there is a famous story of Hiranyakashipu and Prahlada. Story indicates the transformation process of our perception from body to soul.

      Every human being is a beautiful combination of soul and body. Soul, the energy – our real being, manifests through the body. When a person possessed with knowledge lives and behaves in this manner, it is called soul consciousness. But over a period, in the long journey of birth and death, a person forgets his real being – the soul and thinks himself a body. It is called bdoy consciousness. This body consciousness gives birth to body perception and this body perception produces a strong thought of me and mine. As a result, a long chain of negative feeling, selfish attitude and actions is generated. This body perception is called Hiranyakashipu. This perception covers all our divine powers. Therefore, it is necessary to come out of this perception.

      The story describes that the person’s inner soul itself(Prahlaada) knocks slowly slowly the doors of his mind and intellect to come out of this state but a person living in body perception always ignores this knocking and he never wishes to come out of it, because the soul perception determines the end of body perception. That person also tries to kill his inner soul’s voice but the inner soul is so compassionate and kind that it continuously knocks till a person attains the knowledge. This compassionate and kind soul is called Prahlaada.

Next page

  First published : 30-5-2009 AD( Jyeshtha shukla saptamee, Vikrama samvat 2066)

हिरण्यकशिपु एवं प्रह्लाद की कथा द्वारा मन - बुद्धि में विद्यमान देहभाव के आत्मभाव में रूपान्तरण का चित्रण

 - राधा गुप्ता

          श्रीमद्भागवत महापुराण के सप्तम स्कन्ध में प्रथम अध्याय से लेकर दशम अध्याय तक हिरण्यकशिपु एवं प्रह्लाद की कथा का विस्तार से वर्णन है कथा पूर्णरूप से प्रतीकात्मक है और मनुष्य के मन - बुद्धि में बसे देहभाव( देहाभिमान) के आत्मभाव(आत्माभिमान) में रूपान्तरित होने से सम्बन्धित है कथा के अभिप्राय को समझने के लिए सर्वप्रथम उसके पौराणिक स्वरूप को जान लेना आवश्यक है

कथा का संक्षिप्त स्वरूप

कश्यप ऋषि की अनेक पत्नियों में से एक थी दिति दिति के दो पुत्र थे - हिरण्यकशिपु और हिरण्याक्ष पृथ्वी का उद्धार करने के लिए भगवान् ने वराह अवतार ग्रहण करके हिरण्याक्ष का वध कर दिया इससे हिरण्यकशिपु कुपित होकर भगवान् का विद्वेषी हो गया वह भगवान् को प्रिय लगने वाली सभी शक्तियों - देवता, ऋषि, पितर, ब्राह्मण, गौ, वेद तथा धर्म से भी द्वेष करता और उन्हें उत्पीडि करता उसने अजर, अमर और संसार का एकछत्र सम्राट् होने के लिए कठोर तप किया, जिससे ब्रह्मा जी प्रसन्न हो गए ब्रह्मा जी से वरदान प्राप्त करके वह समस्त प्रकृति को अपने आधीन करके संसार का एकछत्र सम्राट् होकर समस्त प्राकृतिक शक्तियों से अवध्य हो गया सारी प्रकृति हिरण्यकशिपु के अधिकार में गई थी, इसलिए वह जो चाहता, जैसा चाहता, प्रकृति उसे समर्पित करती इस प्रकार वह समस्त विषयों का स्वच्छन्द उपभोग करता हिरण्यकशिपु के अमर्यादित आचरण से देवता अत्यन्त पीडित हुए और भगवान् की शरण में पहुंचे भगवान् ने हिरण्यकशिपु के वध का आश्वासन देकर देवताओं को उद्वेरहित कर दिया

          हिरण्यकशिपु के चार पुत्रों में से सबसे छोटे पुत्र का नाम था प्रह्लाद प्रह्लाद भगवान् के परमप्रेमी भक्त, संतसेवी, आत्मज्ञानी तथा महात्मा थे पिता की इच्छा के अनुसार वे पिता को जगत् का स्वामी मानकर परमात्मा को ही जगत् का एकमात्र आधार एवं स्वामी स्वीकार करते थे   हिरण्यकशिपु ने प्रह्लाद को वद्भक्ति से विमुख करने का पर्याप्त प्रयत्न किया परन्तु सफल होने पर उन्हें मार डालने का भी अनेक प्रकार से प्रयत्न किया कभी हाथी के पैरों तले कुचलवाया, कभी सर्पों से डसवाया, कभी में जलवाया, कभी आंधी में रखा, कभी समुद्र में जलवाया, कभी पर्वत से फिंकवाया, कभी अंधेरी कोठरी में बन्द कराया तथा कभी मायाओं का प्रयोग आदि कराया परन्तु प्रह्लाद मरे नहीं

          एक दिन पिता के बहुत समझाने पर भी जब प्रह्लाद ने राजमहल के स्तम्भ में भी परमात्मा की उपस्थिति का समर्थन करते हुए परमात्मा को ही जगत का स्वामी बतलाया, तब हिरण्यकशिपु क्रोध में बबूला हो गया उसने सिंहासन से कूदकर उस स्तम्भ पर तलवार से प्रहार किया स्तम्भ से नृसिंह भगवान् प्रकट हुए और उन्होंने हिरण्यकशिपु को अपनी जंघओं पर लिटकर मार डाला हिण्यकशिपु के वध से देवताओं सहित समस्त प्रकृति प्रसन्न हो गई और उन्होंने पृथक् - पृथक् नृसिंह भगवान् की स्तुति की भक्त प्रह्लाद की स्तुति से प्रसन्न होकर भगवान् ने उन्हें च्छि वर मांगने के लिए कहा प्रह्लाद ने वद्भक्ति के साथ - साथ अपने पिता की दुस्तर दोष से शुद्धि हेतु प्रार्थना की उसी समय ब्रह्मा जी का आगमन हुआ और उनकी पूजा को स्वीकार करके नृसिंह भगवान् अन्तर्धान हो गए अन्त में शुक्राचार्य आदि मुनियों के साथ मिलकर ब्रह्मा जी ने प्रह्लाद को दैत्यों और दानवों के अधिपति पद पर विभूषित कर दिया

          प्रस्तुत कथा में अनेक वर्णन ऐसे भी हैं जो कथा को विस्तार प्रदान करते हैं । परन्तु वे सब वर्णन हिरण्यकशिपु एवं प्रह्लाद की प्रकृति(स्वभाव) को इंगित करने के लिए ही समाविष्ट हुए हैं । उनका मूलकथा में कोई पृथक् योगदान प्रतीत नहीं होता

कथा की प्रतीकात्मकता

कथा को समझने के लिए कथा के प्रमुख प्रतीकों को समझना अनिवार्य एवं उपयोगी होगा

. दिति - प्रत्येक मनुष्य आत्मा और देह का एक योग है आत्मा मनुष्य का अपना स्वरूप है वह एक चेतन शक्ति है जो देह(स्थूल, सूक्ष्म , कारण) नामक यन्त्र के माध्यम से अभिव्यक्त होती है आत्मा और देह के इस योग को जानकर तदनुसार व्यवहार करने से चेतना की एक अखण्डित स्थिति का निर्माण होता है जिसे पौराणिक साहित्य में अदिति कहा गया है इसके विपरीत, जब मनुष्य आत्मा अथवा आत्मस्वरूप को भूलकर देह नामक यन्त्र को ही सब कुछ समझ बैठता है, तब चेतना की अखण्डित स्थिति खण्डित हो जाती है और इस खण्डित चेतना को ही पौराणिक साहित्य में दिति नाम दिया गया है आधुनिक शब्दावली में हम अदिति को आत्म - चेतना तथा दिति को देह चेतना कह सकते हैं ।

. हिरण्यकशिपु - इस दिति अर्थात् देह - चेतना से देह भाव जिसे देहाभिमान अथवा देहदृष्टि भी कहते हैं - का जन्म होता है देहभाव अथवा देहाभिमान को ही कथा में हिरण्यकशिपु नाम दिया गया है दिति चेतना से उत्पन्न होने के कारण ही उसे दिति का पुत्र कहा गया है हिरण्यकशिपु शब्द भी इस देहभाव को ही सूचित करता है हिरण्यकशिपु शब्द में हिरण्य का अर्थ है - स्वर्णिम तथा कशिपु का अर्थ है - चट अथवा बिस्तर भौतिक आकर्षण स्वर्णिम होते हैं, इसीलिए आकर्षित करते हैं । अतः जो मनश्चेतना भौतिक आकर्षणों की चट अर्थात् देहभाव में स्थित है, वह हिरण्यकशिपु है

          कथा में हिरण्यकशिपु का चरित्र विस्तार से वर्णित है इस वर्णन द्वारा देहभाव अथवा देहाभिमान के स्वरूप को ही समझाने का प्रयास किया गया है देहभाव अथवा देहाभिमान में मन - वचन - कर्म की एकरूपता नहीं होती मनुष्य सोचता कुछ और है, कहता कुछ और है तथा करता कुछ और है भ्राता हिरण्याक्ष की मृत्यु होने पर हिरण्यकशिपु सभी दु:खी स्वजनों को आत्मज्ञानी की भांति उपदेश देता है, जिसमें देह की क्षणभङ्गुरता को व्यक्त किया जाता है परन्तु दूसरी ओर वह स्वयं संसार का एकछत्र सम्राट् होने के लिए तप करता है तथा तप से समस्त प्रकृति को अपने आधीन करके विषयोन्मुख होकर इन्द्रियों के वशीभूत बना रहता है एक ओर वह आत्मा की अमरता का वर्णन करता है तो दूसरी ओर आत्मस्वरूप की विस्मृति के कारण शरीर से ही अजर - अमर होने की इच्छा करता है

          देहचेतना रूपी दिति से देहभाव(हिरण्यकशिपु) और भोगभाव(हिरण्याक्ष) दोनों उत्पन्न होते हैं, इसलिए कथा में हिरण्याक्ष को हिरण्यकशिपु का भाई कहकर इंगित किया गया है देहभाव का सुदृढ बल और आधार भोगभाव ही है क्योंकि भोग भाव का नाश होने पर निस्सन्देह रूप से देहभाव भी खतरे में जाता है इसीलिए कथा में हिरण्याक्ष का वध हो जाने पर हिरण्यकशिपु को क्रोधयुक्त तथा हिरण्याक्ष का वध करने वाले भगवान् का विद्वेषी कहा गया है

          देहभाव(देहाभिमान ) आत्मा अथवा आत्मा की आवाज को सहन नहीं कर पाता क्योंकि आत्मा की आवाज को सुनने का अर्थ है - देहभाव की समाप्ति अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए देहभाव आत्मा अथवा आत्मा की आवाज को सतत् नष्ट करना चाहता है, जिसे कथा में हिण्यकशिपु द्वारा प्रह्लाद वध की चेष्टाओं के रूप में इंगित किया गया है

. प्रह्लाद(प्र+ह्लाद) का अर्थ है - प्रकृष्ट (विशिष्ट) प्रसन्नता या उल्लास प्रकृष्ट प्रसन्नता आनन्द का वाचक है तथा आत्मा का स्वरूप है, इसलिए प्रह्लाद नामक पात्र आत्मा का प्रतिनिधित्व करता है कथा में प्रह्लाद के माध्यम से परमात्मस्वरूप का जो विस्तृत विवेचन किया गया है, उसका उद्देश्य भी प्रह्लाद की आत्मस्वरूपता को ही इंगित करना है

          कथा में प्रह्लाद को हिरण्यकशिपु का पुत्र एवं वद्भक्त कहा गया है हिरण्यकशिपु प्रबल देहभाव का तथा प्रह्लाद आत्मा का प्रतीक है, इसलिए एक प्रश्न स्वभावतः उपस्थित होता है कि प्रबल देहभाव(हिरण्यकशिपु) से आत्मा ( प्रह्लाद) की उत्पत्ति कैसे सम्भव है?

          वास्तव में प्रह्लाद को हिरण्यकशिपु का पुत्र कहकर हमारा ध्यान इस विशिष्ट तथ्य की ओर आकर्षित किया गया है कि प्रबल देहभाव (हिरण्यकशिपु) की स्थिति में भी मनुष्य का आत्मा पूर्णतः प्रसुप्त नहीं होता आत्मा अति अनुग्रहशील है, इसलिए वह अत्यन्त धीमे - धीमे ही सही, परन्तु लगातार मनुष्य के मन - बुद्धि के द्वार को परमात्मस्वरूप के जागरण रूप सद्ज्ञान के प्रति खटखटाता रहता है पहले देहाभिमान की विद्यमानता तथा बाद में अनुग्रहशील आत्मा द्वारा उसके द्वार का खटखटाना ही प्रह्लाद का हिरण्यकशिपु का पुत्र होना है

          प्रबल देहभाव की स्थिति में आत्मा के अनुग्रहशील होने को ही कथा में प्रह्लाद का 'वद्भक्त' होना कहा गया है आत्मा प्रत्येक मनुष्य को उसके वास्तविक आत्म - स्वरूप में स्थित कराना चाहता है - यही उसकी अनुग्रहशीलता है

          प्रबल देहाभिमान की स्थिति में चूंकि अनुग्रहशील आत्मा बहुत धीमी आवाज में ही मनुष्य के मन - बुद्धि के द्वार को खटखटाता है, इसीलिए प्रह्लाद को वर्ष का बालक कहकर इंगित किया गया है

          कथा में प्रह्लाद को असुर भक्त कहकर निरूपित किया गया है चूंकि देहभाव एक आसुरी भाव है, इसलिए इस आसुरी भाव से मनुष्य के मन को मुक्त करने के लिए उपस्थित हुई अनुग्रहशील आत्मा(प्रह्लाद ) को असुर भक्त कहना सर्वथा युक्तिसंगत ही है

. नृसिंह - नृसिंह अथवा नरसिंह शब्द नर और सिंह नामक दो शब्दों के योग से बना है नर शब्द प्राण अथवा चेतना का वाचक है उच्च कोषस्थ दिव्य चेतना जब मनुष्य के अन्नमय कोष में अवतरित होती है, तब अन्नमय कोष की चेतना नर चेतना कहलाती है अथवा ऐसा भी कह सकते हैं कि उच्च कोशों में स्थित दिव्य प्राण जब अन्नमय कोश में अवतरित होते हैं, तब अन्नमय कोश के प्राण नर प्राण कहलाते हैं । सिंह शब्द शक्ति का प्रतीक है इस प्रकार नर और सिंह शब्दों के योग से अर्थ हुआ - स्थूल शरीर के स्तर पर अवतरित दिव्य चेतना शक्ति स्थूल शरीर में क्रियाशील सामान्य चेतना के द्वारा जहां मनुष्य जीवन के सामान्य कार्यों को ही सम्पन्न कर पाता है, वहीं दिव्य चेतना शक्ति का विनियोग वह देहभाव की समाप्ति रूप विशिष्ट कार्य को सम्पन्न करने में ही करता है इसलिए स्थूल शरीर के स्तर पर यह दिव्य चेतना शक्ति अवतरित भी तभी होती है जब मनुष्य पूरी तरह से देहभाव का विनाश करने और आत्मभाव में स्थित होने के लिए तत्पर हो

 

Next page

This page was last updated on 12/26/11